" कुछ धर्म और श्रुति से रूढ़ता - मूढ़ता के विरुद्ध " रविवार, 26 जुलाई 2009

जागरण की यह साईट - विशेष पर उपलब्ध इन लेखों का लिंक बिना व्यक्तिगत लाभ की प्रत्याशा में केवल इन विद्वता - पूर्ण लेखों के प्रचार - प्रसार ,एवं जन- भ्रांतियों के निवारण और समाज में समरसता तथा सद्भाव बढ़ने के उद्देश्य मात्र से दिया जारहा :---

सौजन्य :- दैनिक जागरण से साभार

1 टिप्पणियाँ:

विनय ‘नज़र’ ने कहा…

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। जय श्री कृष्ण!!
----
INDIAN DEITIES

एक टिप्पणी भेजें

"" टिप्पणी देने से पूर्व इसे पढ़ने अनुकम्पा करें ""
गंभीर लेखों पर अपनी सम्पूर्ण विस्तृत प्रतिक्रिया दें ,केवल अच्छा है या लेख .बड़ा सारगर्भित ही कह देने भर सेकाम नही चलेगा यातो पक्ष में आकर या विरोध में जा कर अथवा इसके अतिरिक्त कोई और -अन्य राह या सिद्धांत भी है है तो उसे सार्थक चर्चा -बहस के लिए प्रस्तुत करे तभी हमारा आप का लिखना सार्थक होगा वरना एक दूसरे के अहम् को सहलाना मात्र है | मैंने इसी सिद्धांत को अपनाते हुए अपनी पोस्टों पर लिखना कम कर के दूसरो के विचारणीय पोस्टों पर टिप्पणी देना आरम्भ करदिया है ;समझ लीजिये वही मुझे लेखन की संतुष्टि दे देता है|आप से भी यही आपेक्षा करता हूँ | मैंने ::बतकही :: का मूल मंत्र भी यही दिया " मेरी : तेरी : उसकी - बात " यहाँ उसी की बात का यही अर्थ है ....vvvvvvvv
"" फ़िर भी आप अपने ढंग से टिप्पणी देने के लिए स्वतंत्र हैं ""

टिप्पणी प्रकाशन में कोई परेशानी है तो यहां क्लिक करें..